Subscribe

RSS Feed (xml)

Powered By

Skin Design:
Free Blogger Skins

Powered by Blogger

Friday 29 May 2009

दरकार है

आदमी को जिन्दगी दरकार है 
जिन्दगी को हर खुशी दरकार है 

Thursday 28 May 2009

गए थे पास उनके

गए थे पास उनके पर उन्हें मिल कर नहीं आये 
बहुत कुछ था जुबां पर पर उन्हें कह कर नहीं आये

Sunday 24 May 2009

नफरत मेरे खून से ही मिटा दे

नफरत मेरे खून से ही मिटा दे 
मुझे बस मुहब्बत मुहब्बत बना दे

Thursday 21 May 2009

पत्थर अज़ीज़ है

थक गया जब बेतहाशा काम मिल गया 
बेकार हूँ बेशक मगर आराम मिल गया

Saturday 16 May 2009

झूंठी बातें चलना मुश्किल

झूंठी बातें चलना मुश्किल
पल पल बात बदलना मुश्किल

Tuesday 12 May 2009

अजीब हैं

अजीब हैं हुज़ूर तो अजीब ये विचार है 
कि हर तरफ जहान में खुशी अमन करार है

Monday 11 May 2009

ऐरे गैरे

ऐरे गैरे नत्थू खैरे जिस दिन से स्वीकार हुए  
द्वार देहरी घर आँगन सब उस दिन से बीमार हुए

Sunday 10 May 2009

लगे अनेक घाव हैं

लगे अनेक घाव हैं कि दर्द बेशुमार है  
ज़नाब की गलतफहम निगाह का शिकार है

Friday 8 May 2009

मामला

हो गया था शांत सारा मामला
खुल गया फिर क्यों दुबारा मामला

Tuesday 5 May 2009

कहता तो हूँ

कहता तो हूँ पांडवों की ही कथा मित्रों
तुम पर मुझ पर भी यही तो है घटा मित्रों