Subscribe

RSS Feed (xml)

Powered By

Skin Design:
Free Blogger Skins

Powered by Blogger

Sunday 13 September 2009

सोचता हूँ यार मेरी बात पर

सोचता हूँ यार मेरी बात पर
क्यों खफा संसार मेरी बात पर

गौर से सबने सुना सबको मगर
हो गयी तकरार मेरी बात पर

आपको उपलब्ध सारी ताज़गी
है हवा बीमार मेरी बात पर

छलकते हैं जाम सब के वास्ते
कर दिया इनकार मेरी बात पर

गैर की खातिर तबस्सुम कहकहे
क्रोध का इज़हार मेरी बात पर

पूछते तूफ़ान भी मेरा पता
बिजलियाँ तैयार मेरी बात पर

आज "जोगेश्वर" निकलना चाहिए
कुछ नतीजा यार मेरी बात पर

2 comments:

शोभित जैन said...

आ गया है आज हमको प्यार तेरी बात पर
....

ek aur behtareen rachna...

विपिन बिहारी गोयल said...

गौर से सबने सुना सबको मगर
हो गयी तकरार मेरी बात पर


सही आदमी के साथ यही होता है
bahut sunder