Subscribe

RSS Feed (xml)

Powered By

Skin Design:
Free Blogger Skins

Powered by Blogger

Wednesday 27 March 2013


होलिका दहन करके घर लौटते समय होली के माहौल ने अपना असर दिखाना प्रारम्भ कर दिया। नतीजा जो निकला वो आपके सामने हाजिर है :


हल्ला गुल्ला कुछ न हुआ, फिर होली क्या ?
बौराया गर ना बबुआ, फिर होली क्या ?

रंग डाला है पोर पोर इस तन का तो 
मन को रत्ती भर न छुआ, फिर होली क्या ?

अपनों से यदि गले नहीं मिल पाए तुम 
मिली बुजुर्गों की न दुआ, फिर होली क्या ?

खींच तान कर ओढ़ रखी हैं मुस्कानें 
भीतर बुझा बुझा मनुआ, फिर होली क्या ?

सब कुछ दाँव लगा पर प्रीत निभा प्यारे 
इतना भी खेला न जुआ, फिर होली क्या ?

शीश झुका कर पीछे पीछे चलते हो 
बने न जीवन में अगुआ, फिर होली क्या ?

धूप उम्र की ढलने आयी "जोगेश्वर"
बने रहे अब भी ललुआ, फिर होली क्या ?

No comments: