Subscribe

RSS Feed (xml)

Powered By

Skin Design:
Free Blogger Skins

Powered by Blogger

Thursday 16 July 2009

चाँद अकेला तारे गायब

चाँद अकेला तारे गायब
रातों रात नजारे गायब

यूं तो थे हमदर्द हजारों
वक़्त पडा तो सारे गायब

महफ़िल में तो बेहद रौनक
हम किस्मत के मारे गायब

संदेशों की आवाजाही
कैसे हो हरकारे गायब

इस नैया का कौन खिवैया
लहरें तेज़ किनारे गायब

मनमोहन ने मोहा मन को
अब मनमोहक नारे गायब

बलिदानों की बारी आयी
जितने नाम पुकारे गायब

"जोगेश्वर" तू कर्मवीर बन
वचन-वीर तो सारे गायब

7 comments:

ओम आर्य said...

chand to akela hi paida huaa hai par tare samay samay par gaayab ho jate hai ......sundar bhaw our rachana...

Udan Tashtari said...

वादो की दुकान सजा कर
नेता दिन दहाडे गायब!!


बेहतरीन!!

भगीरथ said...

यूं तो थे हमदर्द हजारों वक़्त पडा तो सारे गायब
बहुत खूब

abhivyakti said...

bahu achchha likha hai ek jan sevk ke hathon kalam dekh prasannta hui.

बसंत आर्य said...

एक विधायक होकर ऐसे मनोभाव. वर्ना लोग तो नाउम्मीद ही हो चुके है. भाई साहब आपका कलम चूमने को जी कर रहा है. पहली बार आया . पर अच्छा लगा. बधाई.

venus kesari said...

jogeshvar bhai is gajal ki to jitnee tareef karon kam hai

dil khush ho gaya

venus kesari

गंगू तेली said...

यूं तो थे हमदर्द हजारों
वक़्त पडा तो सारे गायब
Hujoor apan to gangu teli hai. Chikni baate pasand aati hai. par aap ke is hakikat bhare sher ne marm tak chhoo liya.
Saadhuwad...

meri maane to comments posting me word verification band kar deejiye. Vaise bhi ek jansevak tak aane ke raste me janta ko baadhaye kam se kam mahsoos ho to hi achha hai..